What is UPS and How does it Work [Hindi]

आज हम बात करेंगे कंप्यूटर के पावर बैकअप यूपीएस के बारे में। जिसमें हम जानेंगे कि UPS क्या है। यह कैसे काम करता है? इसका उपयोग क्यों किया जाता है

Sep 25, 2022 - 10:01
Sep 25, 2022 - 11:45
 0  26
What is UPS and How does it Work [Hindi]

1. यूपीएस क्या है ?

Full Form - Uninterruptible Power Supply 

जब हम कंप्यूटर खरीदते हैं तो कंप्यूटर मिलने के बाद हम अंत में यूपीएस भी लेते हैं। जिससे हमारे कंप्यूटर को पावर बैकअप मिल सके। अब आप सोच रहे होंगे कि यूपीएस के बिना कंप्यूटर आखिर खराब कैसे हो जाता है। तो चलिए इसके बारे में समझते हैं।

घर में जितने भी उपकरण हम बिजली से चलते हैं, उनमें से अधिकतम उपकरणों के लिए किसी भी तरह के यूपीएस की जरूरत नहीं होती है। अगर कहा जाए तो लाइट कटने पर उस डिवाइस पर किसी तरह का कोई असर नहीं होता है। और वह डिवाइस सुरक्षित रहता है।

लेकिन कंप्यूटर एक ऐसा उपकरण है जिसमें बिजली कटने पर यह खराब हो सकता है। इसके खराब होने के पीछे का कारण यह है कि यह ठीक से बंद नहीं हो पाता है। इसलिए कहा जाता है कि कंप्यूटर का इस्तेमाल करने के बाद उसे ठीक से बंद कर दें।

उचित शटडाउन न होने से क्या-क्या समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। सबसे पहले, हमारे कंप्यूटर का पूरा डेटा क्षतिग्रस्त हो सकता है, या दूषित हो सकता है। अगर अचानक रोशनी चली जाए तो हमारी सारी मेहनत बर्बाद हो सकती है। अगर वह फाइल सेव नहीं हुई है तो। और तीसरा यह है कि उस कंप्यूटर की हार्ड डिस्क के खराब होने की संभावना बढ़ जाती है।

2. UPS काम कैसे करता है ?

एक UPS के अंदर में बेसिक चार parts लगे होते है। जो निम्नलिखित है :-

  • Battery
  • Inverter
  • Battery charger or Rectifier
  • Static switch or contactor

BATTERY

यूपीएस के अंदर सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा बैटरी है। जो बिजली कटने पर पावर बैकअप देता है जिससे हमारा कंप्यूटर कुछ देर तक चल सकता है। और हम इसे ठीक से बंद कर सकते हैं। अगर इस बैटरी में चार्ज रखा जाए तो कंप्यूटर चल सकता है।

INVERTER

इन्वर्टर का मूल कार्य हमारी बैटरी की डीसी पावर को एसी में बदलना है। इन्वर्टर रेक्टिफायर के विपरीत है। यह डीसी की निरंतर आवृत्ति और आयाम को एसी में बदलने का काम करता है।

RECTIFIER

आप सभी को बेसिक पता होना चाहिए कि रेक्टिफायर का काम क्या होता है। इसका मुख्य काम एसी को डीसी में बदलना है। जिसका उपयोग UPS के अंदर बैटरी चार्ज करने के लिए किया जाता है।

STATIC SWITCH

यूपीएस को बिजली स्थानांतरित करने के लिए एक स्थिर स्विच की आवश्यकता होती है। जिसमें पावर का ऑपरेशन बहुत तेजी से होता है। जो लगभग 10 मिलीसेकंड है। यही कारण है कि पावर कट होने पर भी हमारा कंप्यूटर यूपीएस पर चलता है। और अगर कंप्यूटर को इन्वर्टर से चलाया जाता है तो बिजली कटने पर यह बंद हो जाता है। क्योंकि स्विचिंग यूपीएस की तरह तेज नहीं है।

3. UPS और INVERTER में अंतर

UPS का उपयोग केवल कंप्यूटर में ही किया जा सकता है। इसका उपयोग हम घर में बिजली की आपूर्ति के लिए कर सकते हैं, जबकि इन्वर्टर का उपयोग पूरे घर में आपूर्ति के लिए किया जा सकता है।

  • पावर कट होने पर यूपीएस के बैकअप का इस्तेमाल बहुत तेजी से होता है। जो मिलीसेकंड में काम करता है और यही कारण है कि इसका इस्तेमाल कंप्यूटर में किया जाता है। और इन्वर्टर में पावर कट होने के बाद पावर ऑन होने में कुछ माइक्रोसेकंड लगते हैं। जिससे इसे कंप्यूटर में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। और बिजली जाने के बाद हमारा कंप्यूटर बंद हो जाता है।
  • बैकअप की बात करें तो UPS का बैकअप 15 से 20 मिनट का ही है। एक ही इन्वर्टर का बैकअप 8 से 10 घंटे का हो सकता है।
  • अगर मेंटेनेंस की बात करें तो UPS का मेंटेनेंस उतना नहीं है। यूपीएस में बैटरी को एक समय अंतराल में बदलना पड़ता है। वही इन्वर्टर में 3 से 4 साल में इसकी बैटरी बदलनी पड़ती है, साथ ही समय-समय पर इसमें पानी भी बदलना पड़ता है.
  • अब अगर कीमत की बात करें तो एक यूपीएस की कीमत 2000 से 3000 के बीच होती है। 10000 से 20000 तक एक ही इन्वर्टर लगाने में खर्च करना पड़ता है। लेकिन अब इनवर्टर भी यूपीएस मोड के साथ आने लगे हैं, जिन्हें कंप्यूटर में इस्तेमाल किया जा सकता है।

दोस्तों आपको आज का ब्लॉग कैसा लगा मुझे जरूर बताएं। ताकि मैं अपने ब्लॉग को और बेहतर बना सकूं। ताकि आप और आसानी से समझ सकें। मुझे कमेंट करके जरूर बताएं। या आप हमें मेल भी कर सकते हैं। और अगर अच्छा लगे तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें। ताकि यह उपयोगी जानकारी सभी तक पहुंच सके।

...Thanks...

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow

RaviBlog I have 5 years experience in Information Technology (IT) and Internet. All the time I am researching new material and tricks.